Menu

संख्याओं का मेला – Maths at the Mela Hindi

Author: Kavitha Mandana, Illustrator: Nirzara Verulkar

 

Text and Images from संख्याओं का मेला

इससेपहले क छस केछीस छा उसमबैठ पाते,
छोट रेलगाड़ी मबैठनेक जगह ही नह बची।
फर गाड़ी नेज़ोर क सीट मारी, और चल पड़ी।
चौथी क के बचेए वथय को अगलेचकर
का इंतज़ार करना पड़ा।

इससेपहले क सर बMच क गनती शु करत, लीलूनेझटपट
अपनी क  के बMच को दो-दो क जोड़य मबाट Jदया-
“२, ४, ६, ८, १०, १२, १४, . . . ३६!”
Jटकट वालेनेपूछा,“ कतनेJटकट ह5आपके?”
“१८,” लीलूनेजवाब Jदया।

<end of sample>

Read the full version of the book by selecting one of the buttons below the post.

संख्याओं का मेला English version below:

See the English version using these links.

 

 

 

See more Hindi stories below

 

 
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

....