Menu

जादुई दर्पण – The Magic Mirror Hindi

Author: Nin Monthakondeaklin, Illustrator: UK Nhal

Text and Images from जादुई दर्पण – The Magic Mirror Hindi

 

बचेउस घर क ओर चल पड़ । उ-हने :खड़क सेझाँका। अंदर वा;द जन सेभरी एक मेज़ सजी थी। अचानक सामनेका दरवाजा मानो जा?  सेखुल गया। उ-हएक अजीब सी आवाज़ सुनाई द, “तुम सब भूखेलग रहेहो। आओ और जी भर खाओ।“

म को शक आ। उसनेअपनेदोत को सचेत करतेए कहा, “ मुझेनह लगता क हमये जन खानेचाहए।“ “लेकन हमबत भूख लगी है,” दोत कुल होकर बोले, “हमसेयह भूख अब और नह सही जा रही है। और जन भी देखो कतनेवा;द ह!“ तभी एक दोत नेसैम सेकहा, “तुह नह खाना तो मत खाओ, पर हममत रोको।“

जैसेही सारेदोत खानेक लए अंदर गए, सैम नेअपनी बहन का हाथ कसकर पकड़ लया। “सैम, मुझेबत भूख लगी है,” वह गड़गड़ाई, “मभी सबक

साथ खाना चाहती !” सैम नेइंकार मसर हला ;दया। “नह, सोय, बलकुल नह। याद नह हमारे माता-पता नेहमIया बताया था– अपना पेट भरनेक  लए मत खाओ, अपनेअहंकार क लए कायमत करो। और Iया तुहनह लगता क यह घर थोड़ा अजीब ह? ”

<end of sample>

Read the full book by selecting one of the buttons below the post.

जादुई दर्पण Englis Version below:

Read this story in English here.

See more stories in Hindi below

 

 
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

....