Menu

टीने और दूर बसे पर्वत – Tine and the Faraway Mountain Hindi

Author: Shikha Tripathi Illustrator: Ogin Nayam

 

Text and Images from टीने और दूर बसे पर्वत

“मनेअपनेडर सेआज़ाद पा ली थी, मुझेना तो मानदंड का डर था, ना ही समाज का।
मन तो असफलता सेडरती थी, न ही मृ!युसे। मुझेअपनी ताक़त पर पूरा व’स था
और मनेअपनी क़दरती तभा को जमकर माँजा। अपनी कमज़ो-रय को .र कया
और सबसेज़री बात यह क मनेहमेशा अपनी सुनी”
—टनेमेना, पवतारोही।

आज का दन टनेमेना के लए बत मह:वपूणहै।
२५ साल क? टन, उर पूव भारत क? पहली ऐसी महला ह
जEहनेएवरेFट क? चढ़ाई क। माउंट एवरेFट नया क
सबसेऊँची चोट हैऔर इसक? ऊँचाई है८,८४८ मीटर।
यानी अगर ६ फुट लंबे५००० लोग को एक के ऊपर एक
खड़ा कया जाय, उतना ऊँचा!
तो यह कहानी हैटनेकेसंघष5क –
जसेपहाड़ पर चढ़ना ब9त पसंद है।

<end of sample>

Read the full book by selecting one of the buttons below the post.

टीने और दूर बसे पर्वत English version below:

Children’s biography, A story of determination

Read this book in English on the above link.

See more Hindi Stories below

 

 
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

....